राजस्व क्षति रोकने में सभी रेलकर्मियों की भागीदारी सुनिश्चित हो -राजीव अग्रवाल

    पूर्वोत्तर रेलवे : ‘रेल प्रबंधन में कर्मचारियों की भागीदारी’ की बैठक संपन्न

    गोरखपुर ब्यूरो : पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल की अध्यक्षता में ‘रेल प्रबंधन में कर्मचारियों की भागीदारी’ (प्रेम) की बैठक 29 दिसंबर 2017 को महाप्रबंधक सभाकक्ष में संपन्न हुई. बैठक में अपर महाप्रबंधक एस. एल. वर्मा, सभी विभाग प्रमुख, मान्यताप्राप्त यूनियनों तथा एसोसिएशनों के अध्यक्ष, महामंत्री एवं प्रतिनिधि उपस्थित थे. बैठक को संबोधित करते हुए महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल ने कहा कि कर्मचारी संगठनों से प्राप्त सुझाव पर अमल करके हम सभी मिलकर अपनी सेवाओं को और अधिक सुदृढ़ एवं कुशल बनाने का प्रयास करते हैं.

    उन्होंने कहा कि गाड़ियों के समय-पालन के साथ यात्री सुविधाओं में निरंतर वृद्धि करते हुए स्वच्छ स्टेशनों एवं गाड़ियों के साथ यात्रियों को सुरक्षित यात्रा सुविधा प्रदान करना ही हमारा प्रमुख लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 में नवंबर माह तक पूर्वोत्तर रेलवे की कुल प्रभाजित आय 2174 करोड़ रुपये हुई, जो कि पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 7.74 प्रतिशत अधिक है. महाप्रबंधक ने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे की सभी उपलब्धियां हमारे समस्त कर्मचारियों की कड़ी मेहनत और सभी यूनियन एवं एसोसिएशन के सकारात्मक योगदान से ही संभव हो सकी हैं.

    महाप्रबंधक श्री अग्रवाल ने रेल राजस्व की क्षति रोकने के उपायों पर चर्चा करते हुए कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे पर नियमित रूप से चलाए जा रहे टिकट जांच अभियान के फलस्वरूप वर्ष 2017-18 के नवंबर 2017 तक बिना टिकट/अनियमित टिकट/बिना बुक सामान के लगभग 10 लाख मामले पकड़े गए, जिनसे 50 करोड़ रुपये के जुर्माने की वसूली की गई. उन्होंने रेल कर्मचारियों का आह्वान किया कि रेल राजस्व की क्षति रोकने में सभी की भागीदारी सुनिश्चित होनी चाहिए. महाप्रबंधक ने कहा कि दिव्यांग यात्रियों हेतु चलती गाड़ियों एवं स्टेशन परिसरों में दी जाने वाली सुविधाओं में लगातार बढ़ोत्तरी की जा रही है.

    उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे के 328 स्टेशनों पर ह्वील चेयर उपलब्ध हैं. साथ ही छः स्टेशनों पर बैट्री ऑपरेटेड कार की सुविधा है. उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर चरणबद्ध तरीके से लिफ्ट एवं एस्केलेटर लगाए जा रहे हैं. इसके अलावा 8 स्टेशनों पर कुल 23 लिफ्ट लगाई जानी हैं, जिनमें 10 लिफ्ट लगा दी गई हैं तथा शेष 13 लिफ्ट भी जल्दी ही लगा दी जाएंगी. इसी प्रकार 11 स्टेशनों पर 28 एस्कैलेटर लगाए जाने हैं, जिनमें से 18 एस्कैलेटर लगा दिए गए हैं तथा शेष 10 एस्कैलेटर का कार्य प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है. महाप्रबंधक ने कहा कि मेरा प्रयास है कि सभी स्टेशनों पर दिव्यांग यात्रियों हेतु मूलभूत सुविधा उपलब्ध करा दी जाए.

    बैठक में एन.ई.रेलवे मजदूर यूनियन के वयोवृद्ध महामंत्री के. एल. गुप्ता ने रेलवे जमीन के अतिक्रमण पर रोक लगाने, गाड़ियों का प्रमुख स्टेशनों पर ठहराव समय बढ़ाकर माल लोडिंग करने तथा गोरखपुर छावनी स्टेशन पर विभिन्न गाड़ियों को रोके जाने के बारे में विस्तार से चर्चा की. गुप्ता ने कर्मचारी हित से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर भी अपनी बात रखी. पूर्वोत्तर रेलवे ओबीसी रेल कर्मचारी एसोसिएशन के महामंत्री रामबदन यादव ने रेल राजस्व की क्षति रोकने हेतु विभिन्न उपायों पर चर्चा करते हुए इस कार्य में पर्याप्त रेलकर्मियों की तैनाती हेतु सुझाव दिए. उन्होंने रेलवे में नई तकनीक के प्रयोग पर भी जोर दिया.

    पूर्वोत्तर रेलवे एससी/एसटी एसोसिएशन के महामंत्री चंद्रशेखर ने पार्सल घरों से सामानों को प्लेटफार्म-9 तक ले जाने हेतु अतिरिक्त सुगम मार्ग उपलब्ध कराने का सुझाव दिया. आरपीएफ एसोसिएशन के महामंत्री विजय तिवारी ने खतरे की जंजीर का दुरूपयोग रोकने में रेल सुरक्षा बल के अलावा अन्य रेलकर्मियों की सहभागिता पर जोर दिया. उन्होंने रेल सुरक्षा बल को सर्विलांस की व्यवस्था और गाड़ी स्कार्ट पार्टी को 4-जी वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा उपलब्ध कराए जाने पर जोर दिया. पूर्वोत्तर रेलवे प्रथम श्रेणी अधिकारी संघ के महामंत्री आर. पी. यादव ने रेलवे में ठेकेदारों द्वारा की जा रही साफ-सफाई व्यवस्था पर सतत् निगरानी रखने तथा अधिकारियों एवं कर्मचारियों के आवासों के समुचित रख-रखाव का सुझाव दिया.

    बैठक का संचालन करते हुए उप महाप्रबंधक/सामान्य राजेश तिवारी ने सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि उन सभी के सुझाव रेल प्रशासन के लिए बहुमूल्य हैं. उन्होंने कहा कि सभी सहभागियों के सुझाव पर अमल कर प्रशासनिक त्रुटियों को दूर किया जाएगा. उनके धन्यवाद ज्ञापन के बाद बैठक समापन हुआ.


    पूर्वोत्तर रेलवे, परिचालन विभाग की विभागीय राजभाषा समीक्षा बैठक संपन्न

    गोरखपुर : पूर्वोत्तर रेलवे, परिचालन विभाग में विभागीय राजभाषा समीक्षा बैठक का आयोजन 29 दिसंबर को परिचालन विभाग के सभाकक्ष, गोरखपुर में किया गया. बैठक की अध्यक्षता मुख्य यात्री परिवहन प्रबंधक मनोज कुमार सिंह ने की. इस अवसर पर मुख्य मालभाड़ा यातायात प्रबंधक प्रवीण पांडेय सहित परिचालन विभाग के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे.

    अपने अध्यक्षीय संबोधन में मुख्य यात्री परिवहन प्रबंधक मनोज कुमार सिंह ने कहा कि परिचालन विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी अपने कार्यालयीन कार्य सरल एवं आम बोलचाल की भाषा में करें. इसके साथ ही राजभाषा विभाग द्वारा निर्धारित चेक प्वाइंट पर सतत् निगरानी रखी जाए. उन्होंने परिचालन विभाग की ई-पत्रिका के नियमित प्रकाशन तथा हिंदी साहित्यकारों की जयंती पर गोष्ठी आयोजित करने पर जोर दिया.

    इससे पहले अधिकारियों एवं कर्मचारियों का स्वागत करते हुए उप मुख्य परिचालन प्रबंधक एवं राजभाषा संपर्क अधिकारी जे. पी. सिंह ने कहा कि परिचालन विभाग में अधिकांश कार्य हिंदी में किए जा रहे हैं. परिचालन विभाग के सभी अधिकारी अपनी निरीक्षण रपट हिंदी में जारी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि विभाग के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी हिंदी में कार्यसाधक ज्ञान रखते हैं.

    समीक्षा बैठक का संचालन करते हुए वरिष्ठ अनुवादक श्यामबाबू शर्मा ने कहा कि राजभाषा पुस्तिका के वेब संस्करण का विमोचन महाप्रबंधक द्वारा हाल ही में किया गया. यह पुस्तिका सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए अत्यंत लाभप्रद है. वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी संजय कुमार सिंह ने परिचालन विभाग के राजभाषा प्रयोग-प्रसार की स्थिति पर प्रसन्नता व्यक्त की. मुख्य परिचालन प्रबंधक के सचिव राजन कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया.


    सेवानिवृत्त 102 रेलकर्मियों को कुल 23,35,59,311 रु. का भुगतान

    गोरखपुर : पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख मुख्य कार्मिक अधिकारी (प्रिंसिपल सीपीओ) एल. बी. राय ने रेलवे अधिकारी क्लब, गोरखपुर में आयोजित एक समारोह में 31 दिसंबर 2017 को सेवानिवृत्त हुए 100 अराजपत्रित कर्मचारियों एवं दो राजपत्रित अधिकारियों को समापक राशि का प्रपत्र, पहचान पत्र आदि देकर भावभीनी विदाई दी. समापक राशि की मद में कुल 23,35,59,311 रु. (तेईस करोड़ पैंतीस लाख उन्सठ हजार तीन सौ ग्यारह रुपये) का भुगतान किया गया.

    सेवानिवृत्त हुए अधिकारियों एवं कर्मचारियों को संबोधित करते हुए प्रिंसिपल सीपीओ श्री राय ने कहा कि सेवानिवृत्त हो रहे सभी लोगों ने जीवन का अधिकांश बहुमूल्य समय रेल सेवा में बिताया है. इस हेतु रेल प्रशासन उन सभी के प्रति कृतज्ञ है. उन्होंने सेवानिवृत्त हुए रेलकर्मियों के सुखमय जीवन एवं उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना भी की.

    समारोह का संचालन मुख्य कार्मिक अधिकारी/प्रशासन श्रीप्रकाश ने किया. इस अवसर पर संजय कुमार मिश्र, सहायक वित्त सलाहकार एवं मुख्य लेखाधिकारी/पेंशन, सहायक कार्मिक अधिकारी आनंद कुमार तथा बड़ी संख्या में कार्मिक एवं लेखा विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे.

सम्पादकीय