ईमानदारी एवं विश्वसनीयता समाज की आवश्यकता है -पी.एन.राय, एसडीजीएम

    पूर्वोत्तर रेलवे के रेल कर्मचारियों के साथ सतर्कता सेमिनार का आयोजन संपन्न

    गोरखपुर ब्यूरो : पूर्वोत्तर रेलवे सतर्कता संगठन के तत्वाधान में 30 अक्टूबर से 4 नवंबर तक मनाए जा रहे ‘सतर्कता जागरूकता सप्ताह’ के अंतर्गत 3 नवंबर को रेलवे अधिकारी क्लब, गोरखपुर में रेल कर्मचारियों के साथ सतर्कता सेमिनार का आयोजन वरिष्ठ उप महाप्रबंधक एवं मुख्य सतर्कता अधिकारी पी. एन. राय की अध्यक्षता में किया गया. सेमिनार को संबोधित करते हुए पी. एन. राय ने कहा कि ईमानदारी एवं विश्वसनीयता समाज की आवश्यकता है. एक भ्रष्टाचारमुक्त समाज के सृजन के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि हम समाज में अच्छे एवं ईमानदार व्यक्तियों की प्रशंसा करें तथा उन्हें उचित सम्मान प्रदान कर ईमानदारी जैसे मानवीय मूल्यों को महत्व दें.

    श्री राय ने कहा कि भ्रष्टाचार कभी भी शिष्टाचार का अंग नहीं बन सकता. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार निवारण का अत्यंत सकारात्मक तरीका जन-जागरूकता है तथा इसके दुष्परिणामों के प्रति सभी को जागरूक कर इस दुष्प्रवृत्ति को नियंत्रित किया जा सकता है. श्री राय ने जोर देते हुए कहा कि एक कर्मचारी के साथ भी हमें नागरिक के रूप में अपनी भूमिका में पूर्णरूप से सजग एवं सतर्क रहना अत्यंत आवश्यक है. सरकारी संस्थानों की कार्य-संस्कृति में सकारात्मक बदलाव पर बल देते हुए उन्होंने कार्य को ईमानदारी, सत्यनिष्ठा एवं पारदर्शिता के साथ संपन्न करने का आह्वान किया. विलम्ब को भ्रष्टाचार का एक प्रमुख कारण बताते हुए उन्होंने अनावश्यक विलम्ब से बचने की सलाह दी. श्री राय ने कहा कि कर्मचारी किसी भी संस्था का मेरूदंड होते हैं. अतः उनके साथ आपसी विचार-विमर्श भी कार्य-संस्कृति में सुधार के लिए आवश्यक है.

    सेमिनार को विभिन्न विभागों के रेल कर्मचारियों - सिंघा उरांव, सुदेश महतो, के. के. सिंह बघेल, हरेन्द्र सिंह, व्यासमुनि, संजय श्रीवास्तव, कप्तान यादव एवं श्रीमती रचना श्रीवास्तव आदि ने भी संबोधित किया. वक्ताओं ने भ्रष्टाचार निवारण में पारिवारिक संस्कारों के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि परिवार समाज की प्रथम इकाई है तथा यहीं से व्यक्ति नागरिकता का पाठ पढ़ता है. परिवार से प्राप्त संस्कार ही उसके जीवन की आधारशिला बनते हैं. अतएव नैतिक आचरण की महत्ता पर परिवारों को विशेष महत्व देना चाहिए. वक्ताओं ने भ्रष्टाचार निवारण के विभिन्न आयामों एवं प्रयासों की चर्चा करते हुए कहा कि हमें इस बुराई से मुक्त होने के लिए दृढ़ संकल्प करना होगा. इसके निश्चित रूप से अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे. सभी वक्ताओं ने अपने सरकारी दायित्वों के साथ ही समाज के प्रति जिम्मेदारियों एवं कर्तव्यपरायणता को पूरी पारदर्शिता के साथ पूरा किए जाने की बात कही.

    पूर्वोत्तर रेलवे सतर्कता संगठन के तत्वाधान में ‘मेरा लक्ष्य-भ्रष्टाचार मुक्त भारत’ विषय पर परिचर्चा तथा वाद-विवाद एवं निबंध प्रतियोगिता का आयोजन सेंट एन्ड्रूज कालेज, गोरखपुर एवं मदन मोहन मालवीय तकनीकी विश्वविद्यालय, गोरखपुर में किया गया. प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रोत्साहन स्वरूप पुरस्कार प्रदान किया गया.

सम्पादकीय