गौरव कृष्ण बंसल उत्तर मध्य रेलवे के नए मुख्य जनसंपर्क अधिकारी

    इलाहाबाद ब्यूरो : गौरव कृष्‍ण बंसल ने 9 मई को उत्तर मध्य रेलवे के नए मुख्‍य जनसंपर्क अधिकारी का कार्यभार ग्रहण किया. श्री बंसल वर्ष 2000 बैच के भारतीय रेलवे यातायात सेवा (आईआरटीएस) के अधिकारी है. इससे पहले वह उत्‍तर मध्‍य क्षेत्र सांस्‍कृतिक केंद्र, इलाहाबाद के निदेशक के पद पर कार्यरत थे.

    गौरव कृष्‍ण बंसल ने उत्तर मध्य रेलवे के मुख्‍य जनसंपर्क अधिकारी का पदभार ग्रहण करने के पश्चात् जनसंपर्क विभाग में अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ बैठक करके विभागीय कामकाज की जानकारी लेने के साथ ही पूरे कामकाज के तौर-तरीकों की समीक्षा भी की. बैठक में जनसंपर्क अधिकारी अमित मालवीय, मंज़र कर्रार एवं मनीष कुमार सिंह सहित जनसंपर्क विभाग के सभी कर्मचारी उपस्थित थे.


    मुख्य प्रशासनिक अधिकारी/निर्माण द्वारा किया गया पुरस्कार वितरण

    उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय, सूबेदारगंज में 9 मई को वर्ष 2016-17 के दौरान निर्माण संगठन के सिविल, विद्युत, सिगनल एवं दूरसंचार, लेखा, कार्मिक और परिचालन विभाग में कार्यरत उत्कृष्ट कार्य करने वाले दो अधिकारियों तथा 53 कर्मचारियों को मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण), पीयूष अग्रवाल द्वारा पुरस्कृत किया गया. समारोह में पुरस्कृत किए गए पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं में उत्तर मध्य रेलवे, निर्माण संगठन के इलाहाबाद, कानपुर, झांसी, ग्वालियर, धौलपुर, आगरा एवं अलीगढ के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे. इससे पहले के. डी. रल्ह, मुख्य अभियंता (मध्य)/निर्माण ने पीयूष अग्रवाल, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) का पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया.

    मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) श्री अग्रवाल ने वर्ष 2016-17 के दौरान निर्माण संगठन द्वारा किए गए कार्यो का संक्षिप्त ब्यौरा दिया. उन्होंने गत वर्ष में निर्माण संगठन की उपलब्धियों पर हर्ष व्यक्त करते हुए सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बधाई दी. उन्होंने आने वाली चुनौतियों का सामना करने और निर्धारित लक्ष्यों को मानकों के अनुसार समय पर पूरा करने का आहवान किया.

    उन्होंने पर्यावरण के प्रति सभी रेलकर्मियों को संवेदनशीलता बरतते हुए पर्यावरण सुधारने को सार्थक प्रयास करने की सलाह दी. तत्पश्चात मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) ने पुरस्कार के लिए चुने गए अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सराहना की और उनका उत्साहवर्धन करते हुए नकद पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया.