जोनल रेलवे/मंडल/प्रोडक्शन यूनिट में कार्यरत पिछले 20 वर्षो से न ही कैडर रिस्ट्रचररिंग न ही रेलवे बेार्ड की तरह 05 वर्षों में NFG के तहत पे अपग्रेडेशन।

    सेवा में, संपादक महोदय,रेलवे परिपूर्ण समाचार श्रीमान् जी मैं आपके लेख को इंटरनेट पर पढ़ती रहती हूँ एवं आपके द्वारा रेलवे में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं कमियों को आपके द्वारा प्रकशित कर इसके निष्तारण के प्रयास पर मैं आपको हर्दिक बधाई भी देती हूँ। श्रीमान् जी जोनल रेलवे/प्रोडक्शन यूनिट में कार्यरत स्टेनोग्राफर केटेगरी में पिछले 20 वर्षो से कोई भी कैडर रिस्ट्रक्चरिंग का लाभ नही मिला है। यहाँ यह बताना आवश्यक है कि पहले रेलवे में अधिकारियों की संख्या काफी कम थी परंतु वर्तमान में रेलवे के मंडलों में अधिकारियों की संख्या में काफी बढोत्तरी हो गई है। उदाहरण के तौर पर मंडलो पर इंजीविभाग में पहले जहाँ एक या दो अधिकारी रहते थे वहीं वर्तमान में Sr.DEN(Co.), Sr.DEN-I, II, III, IV, DEN(G), स्टेनो की पात्रता रखने वाले कुल 06 अधिकारी हो गये है, इसी प्रकार यांत्रिक में एक अधिकारी कार्य को देखते थे परंतु वर्तमान में 02 अधिकारी कार्य देख रहे है जैसे Sr.DME(C&W)/Sr.DME(O&F) इसी तरह कंस्ट्रक्शन विभाग/टीआरटी विभाग में अधिकरियों की बहाली के कारण संख्या बढ़ गई है। वर्तमान में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन के आदेशानुसार मंडलों में कहीं 02 तो कही 03 अपर मंडल रेल प्रबंधक की तैनाती की जा रही है जिनके कार्यो को सुचारु रुप से संपादित करने के लिए भी स्टेनो की जरुरत है। परंतु रेलवे द्वारा इन कैडरो की लगातार अनदेखी की जा रही है तथा एक ही स्टेनो को कई-कई अधिकारियों का कार्य देखना पड़ रहा है। 7वें वेतनमान में भी इस कैडर को एक समान करने का जिक्र किया जा चुका है-The Commission accordingly strongly recommends parity in pay between the field staff and headquarter staff up to the rank of Assistants on two grounds- firstly the field staff are recruited through the same examination and they follow the same rigour as the Assistants of CSS and secondly there is no difference in the nature of functions discharged by both. Therefore to bring in parity as envisaged by the VI CPC, this Commission recommends bringing the level of Assistants of CSS at par with those in the field offices who are presently drawing GP 4200. Accordingly, in the new pay matrix the Assistants of both Headquarters as well as field will come to lie in Level 6 in the pay matrix corresponding to pre revised GP 4200 and pay fixed accordingly. Similarly the corresponding posts in the Stenographers cadre will also follow similar pay parity between field and headquarter staff. The pay of those Assistants/Stenographer who have in the past, been given higher Grade pay would be protected. रेलवे बोर्ड में कार्यरत स्टेनो जिनकी नियुक्ति 2400 ग्रेड पे (Level-4) में होती है यदि इन्हें कोई प्रमोशन नहीं मिलता है तो इन्हें 5 वर्षों के पश्चात NFG(Non Functional Grade-4200 Level-6) में पदोन्नत कर दिया जाता है जबकि जोनल रेलवे/प्रोडक्शन यनिट में ऐसी व्यवस्था नहीं है यदि इन जगहो पर कार्यरत स्टेनो को कोई प्रमोशन नहीं मिलता है तो 10 वर्षो के उपरांत 2800 ग्रेड पे (Level-5) में पदोन्नत करदिया जाता है। जबकि रेलवे बोर्ड में इस केटेगरी को एक ही तरह के कार्य करने की गाईडलाईन दी गई है। जोनल रेलवे/मंडलो/प्रोडक्शन यूनिट में कार्यरत स्टेनोग्राफरों में इस अनदेखी की वजह से निराशा बढती जा रही है। आपसे अनुरोध है कि इस मामले में उचित कार्यवाही करवाने में मेरी सहायता करें। आपकी एक पाठिका दीपिका मिश्रा

सम्पादकीय